मायावती ने मदरसों के सर्वे पर उठाये सवाल

बसपा प्रमुख ने योगी सरकार पर साधा निशाना

80

लखनऊः उत्तर प्रदेश की पूर्व सीएम एवं बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की अध्यक्ष मायावती ने प्रदेश के मदरसों का सर्वे करा कर निजी मदरसों को गैर मान्यता प्राप्त घोषित किये जाने पर योगी सरकार की कार्रवाई को सवालों के घेरे में खड़ा  किया है। मायावती ने बुधवार को सवाल उठाया कि गैर सरकारी मदरसे यदि सरकार पर बोझ नहीं बनना चाहते हैं तो फिर इनमें दखल क्यों दिया जा रहा है।

मदरसों की जांच रिपोर्ट का हवाला देते हुए ट्वीट कर बसपा प्रमुख ने  योगी सरकार पर निशाना साधा और लिखा कि यूपी सरकार द्वारा विशेष टीम गठित करके लोगों के चन्दों पर आश्रित प्राइवेट मदरसों के बहुचर्चित सर्वे का काम पूरा, जिसके अनुसार 7,500 से अधिक ‘गैर-मान्यता प्राप्त’ मदरसे गरीब बच्चों को तालीम देने में लगे हैं। ये गैरसरकारी मदरसे सरकार पर बोझ नहीं बनना चाहते तो फिर इनमें दखल क्यों ?

उन्होंने पूछा कि क्या सरकार गैर मान्यता प्राप्त घोषित किये गये निजी मदरसों को अनुदान सूची में शामिल करेगी, जिस प्रकार बसपा सरकार ने 100 मदरसों को यूपी बोर्ड में शामिल किया था।

मायावती ने एक अन्य ट्वीट में कहा कि जबकि सरकारी मदरसा बोर्ड के मदरसों के टीचर व स्टाफ के वेतन आदि के लिए बजट प्रावधान हेतु खास तौर से सर्वे कराया जाता है, तो क्या यूपी सरकार इन प्राइवेट मदरसों को अनुदान सूची में शामिल करके उन्हें सरकारी मदरसा बनाएगी ? बीएसपी सरकार ने 100 मदरसों को यूपी बोर्ड में शामिल किया था।

इसे भी पढ़ेः सीएम योगी ने दिया सरकारी जमीन से गरीबों का पुनर्वास करके का निर्देश

गौरतलब है कि योगी सरकार ने हाल ही में  उत्तर प्रदेश के मदरसों को आधुनिक सुविधाओं से लैस करने का हवाला देकर इनका सर्वे कराया है। सर्वे रिपोर्ट में प्रदेश के 7500 से अधिक निजी मदरसे गैर मान्यता प्राप्त श्रेणी में शामिल बताये गये हैं। ऐसे में सभी की नजरें अब इन मदरसों के बारे में सरकार के अगले कदम पर टिकीं हैं।