पंचायत चुनाव में जीतेगी TMC- बोले पार्थ, भर्ती घोटाले में गिरफ्तारी को बताया ‘षडयंत्र’

पार्थ चटर्जी पार्टी के बड़े नेता हुआ करते थे

111

कोलकाताः पश्चिम बंगाल शिक्षक भर्ती घोटाले में गिरफ्तार पूर्व मंत्री पार्थ चटर्जी ने दावा किया कि तृणमूल कांग्रेस ही पंचायत चुनाव जीतेगी। हालांकि एक जमाने में पार्थ चटर्जी पार्टी के बड़े नेता हुआ करते थे, लेकिन भर्ती भ्रष्टाचार के मामले में गिरफ्तारी के बाद पार्थ चटर्जी फिलहाल पार्टी के सभी पदों से ‘निलंबित’ हैं।

हालांकि पार्टी ने भले ही उन्हें दूर कर दिया, फिर भी वह पार्टी के साथ हैं। पार्थ चटर्जी को भर्ती भ्रष्टाचार मामले में सोमवार को अलीपुर की विशेष सीबीआई अदालत में पेश किया गया।

वहां पत्रकारों के सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि टीएमसी ही पंचायत चुनाव जीतेगी और गिरफ्तारी को राजनीतिक षडयंत्र करार दिया।

बता दें कि इसी साल 22 जुलाई को पार्थ चटर्जी को भर्ती भ्रष्टाचार मामले में गिरफ्तार किया गया था। जैसे-जैसे समय बीतते गए, तृणमूल ने उन्हें लेकर अपनी स्थिति स्पष्ट की।

पार्थ को पार्टी के सभी पदों से बेदखल कर दिया गया है। जांच होने तक टीएमसी ने उन्हें निलंबित कर दिया। बाद में पार्टी ने पुष्टि की कि अगर वह जांच के अंत में खुद को निर्दोष साबित करते हैं, तो टीएमसी में गरिमा के साथ लौटने का रास्ता भी खुला है।

पार्थ को टीएमसी ने कर दिया है निलंबित, पार्टी ने झाड़ लिया है पल्ला

बता दें कि, जुलाई से नवंबर तक करीब पांच महीने तक पार्थ को छोड़कर पार्टी की तमाम गतिविधियां और कार्यक्रम चल रहे हैं।  हालांकि, राज्य के पूर्व शिक्षा और उद्योग मंत्री यह बताना चाहते थे कि उन्हें में पार्टी काटे जाने पर भी उन्होंने खुद को पार्टी से अलग नहीं किया?

बता दें कि 14 दिन की जेल हिरासत के बाद सोमवार को पार्थ को कोर्ट में पेश किया गया।  पार्थ के वकील सलीम रहमान ने अदालत में जांच की गति की आलोचना की।

उन्होंने सवाल उठाया कि अगर इस तरह से जांच की गई तो मामला कब पूरा होगा।  साथ ही उन्होंने कहा कि एफआईआर में पार्थ का नाम नहीं है। किसी तरह पार्थ का नाम आरोपियों की लिस्ट में भी नहीं है। इस बीच, पार्थ 75 दिनों से हिरासत में हैं।