कुल्टी की रामनगर कोलियरी में आग बबूला हुए सुरक्षा गार्ड

प्रबंधन और कामगार आमने-सामने

146

कुल्टी, ( सू. सं): सेल बी.एस.एल.  (SAIL BSL) अंतर्गत रामननगर कोलियरी में शिमांचल डिटेक्टिव ठेका सुरक्षा गार्डों के आंदोलन से मामला गरमा गया है। पता चला है कि ठेके की अवधि समाप्त होने के बाद सूरक्षा गार्डों की संख्या घटाकर प्रबंधन ने काम करना शुरू किया है लेकिन इससे कई गार्डों के सामने बेरोजगारी की समस्या आ गई है।
ठेका सुरक्षा गार्डों ने कोलियरी के गेट पर तृणमूल कांग्रेस(टीएमसी) का झंडा लगाकर डिस्पैच ठप कर दिया और जमकर विरोध प्रदर्शन किया है।

इस संबंध में ठेका सुरक्षा गार्ड्स के सुपरवाइजर विमान मंडल ने बताया कि पहले के टेंडर में मैन पावर 97 था। गुरुवार को टेंडर समाप्त होने के बाद एक्सटेंशन देकर कार्य चलाने को लेकर सुरक्षा गार्डों तथा कोलियरी के प्रबन्धक के साथ एक बैठक की गई। इसमें कोलियरी प्रबन्धक की ओर से मैन पवार घटाकर 68 करने का प्रस्ताव रखा गया।

इसी प्रस्ताव का विरोध हो रहा है क्योंकि कोरोना काल से हमलोग अभी पूरी तरह नहीं उबरे हैं और गार्डों की छंटनी करने से बहुत से लोग बेरोजगार हो जाएंगे। आरोप है कि कोलियरी प्रबंधन नया टेंडर से पहले मैनपावर घटाकर अनियमित तरीके से कार्य कर रहा है।

इसीलिये टीएमसी नेता उज्ज्वल चटर्जी के नेतृत्व में हमलोग टीएमसी का झंडा लगाकर कोलियरी का कार्य ठप कर विरोध कर रहे हैं। कार्य ठप होने से कोलियरी को भारी नुकसान का सामना करना पड़ रहा है तथा स्थिति को देखते हुये कोलियरी कार्यालय में पुलिस बल तैनात कर दिया गया है।

इस संदर्भ में कोलियरी के मुख्य महाप्रबंधक टीके राय से पूछताछ करने पर उन्होंने कुछ बताने से इंकार कर दिया। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक ठेका सुरक्षा गार्डों के आंदोलन करने के कारण कोलियरी के बारूद घर समेत कई जगहों पर संवेदनशील पोस्ट खाली पड़े हैं, जिससे चोरी की आशंका बनी हुई है।

फिलहाल दोनों पक्ष अपनी-अपनी बात पर अड़े हैं जिससे माहौल काफी तनावपूर्ण हो गया है और किसी अनहोनी की आशंका से इंकार नहीं किया जा सकता।

इसे भी पढ़ेः केंद्र सरकार की बुलाई बैठक में शिरकत नहीं करेंगी ममता बनर्जी