पुत्री की मौत के तीसरे दिन पिता ने भी दम तोड़ा

लोगों ने पुलिस को शव उठाने से रोका

62

गढ़वा: जिले के मेराल थाना क्षेत्र के कजराठ गांव में दो दिन के अंदर पिता और पुत्री की संदेहास्पद मौत से गांव में सनसनी फैली गई है। मंगलवार की सुबह गांव के रमेश चौधरी का शव दानरो नदी किनारे संदेहास्पद स्थिति में पाया गया। यह खबर जंगल की आग की तरह आसपास के कई गांव में फैल गई और देखते ही देखते बड़ी संख्या में लोग वहां जमा हो गए।
घटना की सूचना मिलते ही पुलिस इंस्पेक्टर केके साहू, थाना प्रभारी नीतीश कुमार दल बल के साथ घटनास्थल पर पहुंचे। पुलिस द्वारा गांव के के लोगों के समक्ष पंचनामा कराकर पोस्टमार्टम के लिए शव को उठाने का प्रयास किया, परंतु घटना से गुस्साए परिजन तथा गांव के लोगों ने खोजी कुत्ता मंगा कर घटना का उद्भेदन करने की मांग पर अड़ गए। लोगों का कहना है कि दो दिनों के अंदर पिता एवं पुत्री की संदेहास्पद मौत के पीछे बड़ा षड्यंत्र है।
बता दें कि रविवार की रात्रि में रमेश चौधरी की पुत्री गुड्डी कुमारी का शव घर में ही फांसी के फंदे से झूलता हुआ मिला था। सोमवार को अंत्यपरीक्षण के बाद पुलिस ने शव को अंतिम संस्कार के लिए परिजनों को सौंपा गया था। गुड्डी का अंतिम संस्कार करने के बाद अगले ही दिन पिता रमेश चौधरी की संदेहास्पद स्थिति में मौत हो गई।
लोगों की मांग पर पहुंचा डॉग स्क्वायड टीम नदी में पानी की वजह से कुछ शिनाख्त नहीं कर पाई। डॉग स्क्वायड टीम में शामिल पुलिस पदाधिकारियों ने बहुत प्रयास किया, परंतु शव की दूसरी और नदी में पानी की वजह से डॉग स्क्वायड नदी के किनारे बैठ गया।
घटना की जानकारी मिलने पर पहुंचे पूर्व विधायक गिरिनाथ सिंह ने कहा कि पिता और पुत्री का संदेहास्पद मौत दुखद है। उन्होंने कहा कि ग्रामीणों की मांग पर उन्होंने पलामू के डीआईजी से बात कर घटनास्थल पर डॉग स्क्वायड बुलवाने का काम की, परंतु कोई सफलता नहीं मिल पाई। उन्होंने घटना के पीछे पारिवारिक तथा सामाजिक कारण भी बताते हुए पुलिस से मामले का जल्द उद्भेदन करने की बात कही।