हक व अधिकार दिलाने के लिए कार्य कर रही सरकारः सीएम

सरकार आपके द्वार कार्यक्रम  

66

सरायकेलाः झारखंड के सीएम हेमंत सोरेन ने सरायकेला में आयोजित सरकार आपके द्वार कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि सरकार ने राज्य के इतिहास में नया अध्याय जोड़ा है। झारखंड के मूलवासियों-आदिवासियों को सशक्त पहचान देने के लिए 1932 का खतियान और सरना धर्म कोड को लागू किया गया है।

सरकार ने दोनों विधेयक को विधानसभा से पारित करवाकर नौवीं अनुसूची में शामिल करने के लिए केंद्र सरकार को भेजा है, ताकि यहां के ओबीसी को आरक्षण, मूलवासियों-आदिवासियों को 1932 की पहचान और सरना धर्म कोड मिल सके।

सीएम ने कहा कि ये कार्यक्रम पिछले 23 दिनों से चल रहा है। गांव में हक़ व अधिकार दिलाने के लिए सरकार कार्य कर रही है। तबीयत ठीक नहीं थी। इसके बावजूद प्रयास रहता है जिस कार्य को शुरू करते हैं तब तक नहीं रुके, जब तक मंजिल तक नहीं पहुंचे।

पहले जहां जाने से पदाधिकारी कतराते थे, वहां आज अफसर जा रहे हैं। बिचौलियागीरी खत्म हो गयी है। 60 वर्ष के साथ लोगों को पेंशन दी जा रही है। यहां के आदिवासी, मूलवासी को देखते हुए योजनाएं बनाई गई हैं। सीएम ने कहा कि ग्रामीण अर्थव्यवस्था मजबूत होगी, तभी राज्य मजबूत हो सकता है।

सीएम ने कहा कि पहले लोन के लिए बैंक का चक्कर काटते थक जाते थे। अब सरकार लोन दे रही है। इसके साथ ही सब्सिडी 40 प्रतिशत दे रही है। सावित्री बाई फुले योजना लायी गयी है। प्राइवेट स्कूल से भी बढ़िया स्कूल बना कर देंगे। जेपीएससी से नियुक्तियां हो रही हैं। नौकरी दी जा रही है। 11 नवंबर 1908 में सीएनटी कानून लागू हुआ था।11 नवंबर को 1932 का खतियान लागू किया गया।