BJP का केंद्रीय नेतृत्व बंगाल में पार्टी को मजबूत करने के लिए मिथुन के भरोसे

बंगाल में करीब 76,000 बूथ हैं

112

कोलकाताः बंगाल में ब्लॉक स्तर पर पार्टी को मजबूत करने के लिए भाजपा का केंद्रीय नेतृत्व मिथुन चक्रवर्ती के भरोसे है। गौरतलब है कि पंचायत चुनाव नजदीक है।

भाजपा का राज्य नेतृत्व भले दावा कर रहा हो कि वह चुनाव के लिए पूरी तरह से तैयार है लेकिन चुनाव की तैयारियों को लेकर पार्टी की तरफ से जारी किए गए दिशानिर्देशों से ही साफ हो गया है कि ब्लाक स्तर पर पार्टी अभी भी बेहद कमजोर है।

दिशानिर्देशों में शुरू में ही पार्टी को ब्लॉक स्तर पर मजबूत करने को कहा गया है। केंद्रीय नेतृत्व यह जिम्मेदारी पहले ही पार्टी नेता मिथुन चक्रवर्ती को सौंप चुका है।

गौरतलब है कि बंगाल में करीब 76,000 बूथ हैं। सियासी विश्लेषकों का कहना है कि पंचायत चुनाव बंगाल के ग्रामीण इलाकों में होते हैं, जहां मिठुन की बहुत ज्यादा लोकप्रियता है।भाजपा इसी को भुनाने की कोशिश कर रही है।

इसे भी पढ़ेंः राष्ट्रपति पर आपत्तिजनक टिप्पणीः विस में BJP ने की नारेबाजी, वॉकआउट

दूसरी तरफ सत्ताधारी पार्टी तृणमूल कांग्रेस का कहना है कि मिथुन को पंचायत चुनाव के मैदान में उतारकर भी भाजपा को कोई फायदा नहीं होने वाला है।

2021 के विधानसभा चुनाव के समय भी मिथुन ने भाजपा के पक्ष में जमकर प्रचार किया था लेकिन उससे उसे कोई फायदा नहीं हुआ था बल्कि मुंह की खानी पड़ी थी और इस बार भी ऐसा ही होगा।

दूसरी तरफ मिथुन को पंचायत चुनाव के लिए बड़ी जिम्मेदारी दिए जाने को लेकर भाजपा का एक वर्ग खुश नहीं है।

उसका कहना है कि मिथुन को पार्टी के सांगठनिक कार्यों का कोई अनुभव नहीं है। ब्लॉक स्तर पर पार्टी के क्या कामकाज होते हैं, इसकी उन्हें समझ नहीं है।

इसलिए इतनी महत्वपूर्ण जिम्मेदारी का सफलतापूर्वक निर्वाह करने में वे सफल हो पाएंगे या नहीं, इसे लेकर संशय हैं। इसके अलावा वे फिल्मों से भी सक्रिय रूप से जुड़े हुए हैं, इसलिए इन कार्यों को कितना समय दे पाएंगे। यह भी एक प्रश्न है। मिथुन को यह जिम्मेदारी न देकर राज्य के किसी वरिष्ठ पार्टी नेता को दिया जाना चाहिए था।