मांस खाने वाले बैक्टीरिया’ ने ली युवक की जान

जान‍िए क्‍या है ये बला

70

कोलकाता: पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता में हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां एक 44 साल के व्यक्ति की ‘मांस खाने वाले बैक्टीरिया’ के संक्रमण से मौत हो गई।

वह आरजी कर मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल (RGKMCH) में इलाज करा रहे थे। डॉक्टरों ने बताया कि मांस खाने वाले बैक्टीरिया को मेडिकल की भाषा में नेक्रोटाइजिंग फैशिआइटिस (Necrotizing Fasciitis) कहते हैं।

डॉक्टरों ने कहा कि मांस खाने वाले बैक्टीरिया का संक्रमण स्‍क‍िन और उसके नीचे के ट‍िश्‍यू पर होता है, जो क‍ि काफी कम देखने को म‍िलता है। हालांक‍ि यह संक्रमण बहुत तेजी से फैल सकता है। ऐसे में अगर सही समय पर इसका इलाज नहीं किया जाता है तो इससे संक्रम‍ित व्यक्ति की मौत भी हो सकती है।

कुछ दिन पहले उनको उस समय चोट लगी थी जब वह एक ट्रेन से गिर गए थे और एक लोहे की छड़ से उनके कूल्हे के निचले हिस्से छ‍िल गए थे।

44 साल के मृमोय राय का इलाज अगले एक सप्ताह तक स्थानीय नर्सिंग होम में किया गया। जब उनकी हालत बिगड़ती गई, तो उन्हें 23 अक्टूबर को आरजीकेएमसीएच की ट्रॉमा केयर यूनिट में ट्रांसफर कर दिया गया। तब तक उनकी हालत खराब हो चुकी थी।

शरीर में फैला हुआ था जहर

सर्जरी के प्रोफेसर हिमांशु रॉय ने बताया क‍ि रोगी को सांस लेने में गंभीर तकलीफ थी। उसके शरीर में जहर फैला हुआ था। हमने उसे तुरंत सर्जरी गहन चिकित्सा इकाई (एसआईसीयू) में भर्ती कराया, उसे वेंटिलेशन पर रखा और बिना किसी देरी के इलाज शुरू किया था।

इलाज के दौरान डॉक्टरों ने इस बात की पुष्टि की कि मरीज के शरीर में नेक्रोटाइजिंग फैशिआइटिस मौजूद है। तब तक इंफेक्शन मरीज के शरीर के निचले हिस्से और नाजुक अंग को खा चुका था।