भगवान राम जीवन जीने का तरीका हैं : राहुल गांधी

भगवान राम ने पूरी दुनिया को प्यार, भाईचारा, इज्जत, तपस्या दिखाई

201

भोपाल : कांग्रेस (Congress) के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) इन दिनों कांग्रेस (Congress) को फिर से जीवंत करने के लिए लगातार प्रयास कर रहे हैं। इसी कड़ी में वो पिछले कई महीनों से ‘भारत जोड़ों’ यात्रा पर हैं। यह यात्रा भारत के सबसे दक्षिणी छोर स्थित कन्याकुमारी से शुरू हुई थी जो कि अब विभिन्न राज्यों से होते हुए राजस्थान पहुंचने वाली है। लेकिन राजस्थान पहुंचने से पहले उन्होंने मध्यप्रदेश के मालवा में एक जनसभा को संबोधित किया। संबोधन के दौरान उन्होंने भगवान राम को लेकर कई बाते की।

क्या कहा राहुल ने
राहुल गांधी(Rahul Gandhi) ने सभा को संबोधित करते हुए कहा कि भगवान राम केवल भगवान नहीं बल्कि जीवन जीने की शैली है। इस दौरान उन्होंने एक घटना का जिक्र करते हुए कहा कि ‘एक पंडित जी ने बताया कि भगवान राम तपस्वी थे, उन्होंने पूरा जीवन तपस्या को दिया। वह एक व्यक्ति नहीं थे बल्कि जीवन जीने का एक तरीका थे। उन्होंने पूरी दुनिया को प्यार, भाईचारा, इज्जत, तपस्या दिखाई’ ।

गांधी जी भी किया ज़िक्र

राहुल ने गांधी जी के बारे में बताते हुए कहा कि ‘जब गांधी जी ‘हे राम’ कहते थे तब उससे उनका मतलब भगवान राम की भावनाओं को अपने अंदर लाने से था, और हमें उसी भावनाओं को लेकर हमें जिंदगी जीनी है’।

इसे भी पढ़ेःबीजेपी की नई कार्यकारिणी में कांग्रेस से आए नेताओं का बोलबाला

12 राज्यों से गुजरेगी भारत जोड़ो यात्रा
आपको बताते चलें कि ‘भारत जोड़ो यात्रा’ 7 सितंबर, 2022 को कन्याकुमारी से शुरू हुई। यह 3,570 किमी लंबी, 150-दिवसीय ‘नॉन-स्टॉप’ पदयात्रा है। जो देश भर के 12 राज्यों और दो केंद्र शासित प्रदेश को कवर करेगी। जिसमें राहुल गांधी दिन में लोगों से मिलेंगे और अस्थाई आवास में सोएंगे। यह जम्मु एवं कश्मीर के श्रीनगर में जाकर खत्म होगी।