हिजाब मामले पर ईरान सरकार ने झूकने को दिए संकेत

हिजाब मामले पर ईरान सरकार ने झूकने को दिए संकेत

70

तेहरान : इरान कई दिनों से लगातार अपने घरेलू प्रदर्शनों से जूझ रहा है। कभी वहां सरकार के विरोध में लोग सड़कों पर उतर आते हैं तो कभी लोकतांत्रिक मूल्यों को लेकर। इसी को लेकर पिछले कई महीनों से इरान में हिजाब को लेकर हिंसक विरोध प्रदर्शन हो रहा है। ईरान की सरकार इसको लेकर कठोर कदम भी उठा रही है लेकिन ये आंदोलन कम होने की जगह और हिंसक होता जा रहा है। आंदोलनकारियों को समर्थन पूरे विश्व भर से भी मिल रहा है। अब इसी मामले पर ईरान सरकार ने झूकने के संकेत दिए हैं।

बदलाव के मिल रहे संकेत
तकरीबन दो महीने से जारी हिंसक प्रदर्शनों के बीच ईरान की सरकार ने हिजाब की अनिवार्यता से जुड़े दशकों पुराने कानून की समीक्षा करने के संकेत दिए हैं. इस कानून के तहत ही ईरान में महिलाओं को अपना सिर ढंकना होता है।

सूत्रों से मिली जानकारी के अनूसार ईरान के अटॉर्नी जनरल मोहम्मद जफर मोंटाजेरी के हवाले से कहा कि ईरान की सरकार ने अब हिजाब की अनिवार्यता से जुड़े दशकों पुराने कानून में बदलाव करने का फैसला लिया है।

उन्होंने कहा कि संसद और न्यायपालिका दोनों इस मुद्दे पर काम कर रहे हैं. दोनों देखेंगे कि क्या कानून में किसी बदलाव की जरूरत है?

इसे भी पढ़ेंः कूचबिहार में बस और ट्रक में टक्कर, लगी आग

अमीनी की हुई थी मौत
आपको बतातें चले कि हिजाब अनिवार्यता के कानून के तहत 22 वर्षीय अमीनी को गिरफ्तार किया गया था। 16 सितंबर को पुलिस हिरासत में ही अमीनी की मौत हो गई थी। कई रिपोर्ट्स के मुताबिक पुलिस हिरास में उनके साथ हिंसात्मक कार्रवाई हुई थी और इसी कारण से उनकी मौत हो गई थी। इसके बाद से ही इरान सहित कई देशों में आंदोलन शुरू हो गए थे।