WAL Vs IRN: एक गलती ने पलटा मैच, आखिरी 3 मिनट में 2 गोल ठोककर ईरान की जीत

वेल्स को 2-0 से हराते हुए टूर्नामेंट में अपना खाता खोल दिया

69

दोहाः करीब 97 मिनट तक 0-0 से चल रहा मुकाबला अपने आखिरी दो मिनट में ऐसा पलटा कि अहमद बिन अली स्टेडियम में बैठे हजारों ईरानी फैंस और मैदान में मौजूद सभी ईरानी खिलाड़ी और सपोर्ट स्टॉफ अपने जज्बातों को काबू में नहीं रख सके।

ग्रुप बी के दूसरे दौर के मैच में ईरान ने नाटकीय अंदाज में 10 खिलाड़ियों के साथ खेल रही वेल्स को 2-0 से हराते हुए टूर्नामेंट में अपना खाता खोल दिया।

शुक्रवार 25 नवंबर को दिन के पहले मुकाबले में लगभग एक जैसी काबिलियत वाली टीमों के बीच टक्कर थी।  हालांकि, ईरान का पलड़ा भारी माना जा रहा था लेकिन वेल्स के पास भी अच्छे मौके थे।

इसे भी पढ़ेंः संसद सत्र शुरू होने से पहले सरकार ने 6 दिसंबर को सर्वदलीय बैठक बुलाई

दोनों ही टीमें हालांकि इन मौकों को भुना नहीं पाईं. गोल के सामने बने मौकों को तब्दील करने की नाकामी के कारण पहला हाफ 0-0 से खत्म हुआ।

हालांकि, दूसरे हाफ में भी कहानी ऐसी ही चलती रही और ऐसे में दोनों टीमों के फैंस बेचैन नजर आने लगे। ईरानी टीम हालांकि, इस हाफ में और भी ज्यादा खतरनाक दिखी और कई बार उन्होंने वेल्स के डिफेंस को छकाया।

इन हमलों से लगातार बन रहे दबाव ने 86वें मिनट में वेल्स के गोलकीपर को ऐसी गलती के लिए मजबूर किया, जिसने मैच का रुख बदलने में निर्णायक भूमिका निभाई।

गोलकीपर की गलती ने पलटा मैच

ईरान के हाफ से एक लॉन्ग बॉल वेल्स के गोल की तरफ आई, जिसे कंट्रोल करने के लिए मेहदी तारेमी ने दौड़ लगाई। अपने डिफेंस को पास नहीं देखकर वेल्स के गोलकीपर वेन हेनेसी ने खतरा उठाते हुए अपना बॉक्स छोड़कर बॉल को क्लियर करने पहुंचे। इसमें तो वह नाकाम रहे लेकिन उनका घुटना तारेमी के सीने और जबड़े पर लग गया। तारेमी मैदान पर गिर गए, और रेफरी ने येलो कार्ड दिखा दिया।

आखिरी 3 मिनट में दो गोल

इसने वेल्स की सारी स्थिति बदल दी क्योंकि न सिर्फ उसे अपने प्रमुख गोलकीपर को खोना पड़ा, बल्कि एक खिलाड़ी को भी गंवाना पड़ा और सिर्फ 10 खिलाड़ियों के साथ आखिरी के 15 मिनट खेलना पड़ा।

यही आखिरी के 15 मिनट उस पर भारी पड़े, जहां वह खुद तो गोल नहीं कर सका, लेकिन ईरान ने जरूर उसकी कमजोरी का फायदा उठाया।