पहले मैच में गोल नहीं कर सका पिछली बार का उपविजेता क्रोएशिया, मोरक्को के खिलाफ मैच ड्रॉ

अंत में यह मैच 0-0 के स्कोर पर खत्म हुआ

109

दौहाः फीफा विश्व कप में क्रोएशिया का पहला मुकाबला मोरक्कीको के साथ ड्रॉ पर खत्म हुआ। पिछली बार की उपविजेता टीम पूरे मैच में गोल के लिए तरस गई। हालांकि, मोरक्को की टीम भी कोई गोल नहीं कर सकी और अंत में यह मैच 0-0 के स्कोर पर खत्म हुआ। इस विश्व कप में यह तीसरा मैच है, जिसमें कोई गोल नहीं हुआ है।

मोरक्को और क्रोएशिया का मैच ड्रॉ पर खत्म हुआ। पूरे 90 मिनट का खेल पूरा होने तक कोई टीम गोल नहीं कर पाई। इंजरी टाइम में भी दोनों टीमों ने गोल करने की भरपूर कोशिश की, लेकिन किसी को सफलता नहीं मिली।

इस विश्व कप का यह तीसरा मैच है, जिसमें कोई भी टीम गोल नहीं कर पाई है। इससे पहले पोलैंड और मेक्सिको के मैच में भी कोई गोल नहीं हुआ था। वहीं, डेनमार्क और ट्यूनीशिया के मैच में भी कोई गोल नहीं हुआ था।

इसे भी पढ़ेंः फीफा विश्व कपः इंग्लैंड ने ईरान को 6-2 से रौंदा, साका ने दागे 2 गोल

फिछले विश्व कप की उपविजेता टीम क्रोएशिया को इस मैच में फेवरेट माना जा रहा था। इस टीम के लिए पहला मैच जीतकर दो अंक हासिल करने का बेहतरीन मौका था, लेकिन यह टीम कोई गोल नहीं कर सकी और अंत में मोरक्को के साथ एक अंक साझा करना पड़ा।

इस मुकाबले में मोरक्को ने गोन करने के आठ प्रयास किए। इनमें से दो शॉट ही टारगेट पर थे और इनमें भी गोल नहीं हो पाया। वहीं, क्रोएशिया ने गोल करने की पांच प्रयास किए और इस टीम के भी दो ही शॉट टागरेट पर थे।

ये दोनों प्रयास भी असफल रहे और क्रोएशिया भी गोल नहीं कर सका। हालांकि, क्रोएशिया का खेल मोरक्को की तुलना में काफी बेहतर था। इस टीम ने गेंद पर 65 फीसदी नियंत्रण रखा, जबकि मोरक्को का गेंद पर नियंत्रण 35 फीसदी ही रहा। क्रोएशिया के खिलाड़ियों ने 85 फीसदी पास सही ठिकाने पर किए, जबकि मोरक्को के 78 फीसदी पास सटीक रहे।

मोरक्को के एक खिलाड़ी को येलो कार्ड भी मिला, जबकि क्रोएशिया के किसी खिलाड़ी को कोई कार्ड नहीं मिला। हालाकि, क्रोएशिया का एक प्रयास ऑफसाइड करार दिया गया।

यह गोल मान्य होता तो क्रोएशिया मैच अपने नाम कर सकता था। क्रोएशिया को पांच कॉर्नर भी मिले, लेकिन टीम किसी का फायदा नहीं उठा सकी। इस मैच में क्रोएशिया ने 11 फाउल किए। वहीं, मोरक्को ने 16 फाउल किए।