टैक्स प्रैक्टिशनरों को नए नियमों से अपडेट रहने की जरूरतः राज्यपाल

विश्वसनीय संस्था को और गतिशील व सक्रिय होकर कार्य करने का प्रयास करना चाहिए

83

रांची: राज्यपाल रमेश बैस ने कहा कि ऑल इंडिया फेडरेशन ऑफ टैक्स प्रैक्टिशनर्स सन् 1976 से जनहित में कार्य कर रहा है, जो महत्वपूर्ण है।

टैक्स प्रैक्टिशनरों को आज नित्य-नए नियमों से अपडेट रहने की जरूरत है, जिससे करदाता का उनके प्रति विश्वसनीयता बनी रहे और करदाता को भी कोई दिक्कत ना आए और टैक्स अथॉरिटी को भी इससे सुविधा हो।

ऑल इंडिया फेडरेशन ऑफ टैक्स प्रैक्टिशनर्स (पूर्वी क्षेत्र), झारखंड इन्कम टैक्स बार एसोसिएशन एवं झारखंड कमर्शियल टैक्सेज बार एसोसिएशन के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित टैक्स कॉन्फ्रेंस में बतौर मुख्य अतिथि बोल रहे थे।

राज्यपाल ने कहा कि जनहित में कर से संबंधित बेवजह संशय को दूर करने के लिए इस प्रकार की विश्वसनीय संस्था को और गतिशील व सक्रिय होकर कार्य करने का प्रयास करना चाहिए।

इसके लिए आप लोगों द्वारा समय-समय पर सेमिनार, जागरूकता कार्यक्रम एवं कैंप का भी आयोजन किया जा सकता है। राज्यपाल ने कहा कि यह जानकर खुशी हो रही है कि फेडरेशन के सदस्य देश में कराधान से संबंधित कानून बनाने में सहयोग देने के लिये सक्रिय रहते हैं और अपना सहयोग प्रदान करते हैं।

कर संग्रह से संबंधित न्यायिक व्यवस्था को सुदृढ़ बनाने में इस संस्था का अहम योगदान है।

इन संस्थाओं को समय पर कर भुगतान के लिए करदाताओं को जागरूक करने की दिशा में भी निरंतर प्रयास कर राष्ट्रहित में अपना योगदान देना चाहिए। सभी नागरिकों के लिए अपने संबंधित करों का भुगतान बहुत जरूरी है।

आप सभी जनमानस को राष्ट्र एवं राज्यहित में राजस्व के महत्व के बारे में अवगत कराएं, राजस्व से योजना का आकार और विकास की रूपरेखा तय होती है।

राज्यपाल ने कहा कि आप सब कर पेशेवर को कराधान से संबंधित विभिन्न नियमों से करदाताओं को भी अवगत एवं जागरूक कराना चाहिए। आम आदमी के लिए इसे सरल बनाने में आपकी भूमिका और भी अधिक महत्वपूर्ण हो जाती है।

इस परिप्रेक्ष्य में आयोजित यह सम्मेलन बहुत ही उपयुक्त है। उम्मीद है कि इस समागम में कर संबंधित विभिन्न विषयों पर गहनतापूर्वक विचार-विमर्श किए जायेंगे, जो झारखंड सहित देशभर के लोगों के लिए लाभकारी साबित होगा।

इस सम्मेलन में देशभर के विभिन्न हिस्सों से टैक्स पेशेवर, चार्टर्ड अकाउंटेंट्स एवं कर अधिवक्ताओं ने हिस्सा लिया।

 

यह भी पढ़ें – अर्जुन मुंडा ने ममता सरकार से की मंत्री अखिल गिरी को बर्खास्त करने की मांग