डॉ. मैनेजर पाण्डेय एवं शेखर जोशी पर श्रद्धांजलि सभा

'सहयोग' साहित्यिक एवं सांस्कृतिक संस्था द्वारा आयोजित

124

आसनसोल: ‘सहयोग’ साहित्यिक एवं सांस्कृतिक संस्था द्वारा आयोजित दिवंगत प्रोफेसर- आलोचक मैनेजर पाण्डेय एवं कथाकार शेखर जोशी की याद में एक श्रद्धांजलि सभा का आयोजन किया गया।

कार्यक्रम में निशान्त ने शेखर जोशी की कहानी ‘दाज्यू’ का पाठ एवं मैनेजर पाण्डेय के निबंधों एवं व्यक्तित्व पर विस्तार से प्रकाश डालते हुए कहा कि शेखर जोशी भावबोध के कथाकार है।

वहीं, कथाकार सृंजय ने कहा कि मैनेजर पाण्डेय प्रमुख आलोचक रहें। उन्होंने जबलपुर में उनके साथ बिताए हुए पलों को याद किया। उनके वीट, हास्य-व्यंग्य को रेखांकित किया। उनकी सहजता-सरलता किसी को भी मैनेजर पाण्डेय का मुरीद बना देगी, इसकी चर्चा की।

नाटककार रामजी सिंह यादव ने ‘कोसी का घटवार’ की चर्चा करते हुए उसे प्रेम के बड़े फलक की कहानी कहा। उन्होंने लोगों से मैनेजर पाण्डेय की किताबों को पढ़ने की अपील की।

इस दौरान आलोचक-प्रध्यापक विजय नारायण ने नई कहानी के महत्वपूर्ण कहानीकार के रूप में उन्हें याद किया। मैनेजर पाण्डेय की पहली पुस्तक ‘सुर साहित्य की सामाजिकता’ को याद किया, जिसमें उन्होंने सुर को ग्रामीण जीवन का कवि कहा।

युवा कवि रोहित प्रसाद पथिक एवं आनंद कुमार आनंद ने अपनी कविताओं के माध्यम से श्रद्धांजलि अर्पित किए।

कार्यक्रम की अध्यक्षता कथाकार महावीर राज़ी, बी. सी. कॉलेज के प्रोफेसर बिजयनारायण, बी.बी कॉलेज के प्रोफेसर अरूण पाण्डेय एवं रामजी दुबे जी ने किया।

कार्यक्रम में मुख्य रूप से रामजी यादव, विद्योत्तमा झा, अवधेश कुमार ‘अवधेश’, जयराम पासवान, भगवन्त शर्मा, आनंद कुमार ‘आनंद’, शोधार्थी ममता कुमारी, सुनील नायक, धर्मेंद्र कुमार, रोहित प्रसाद पथिक आदि उपस्थित थें।

कार्यक्रम का संचालन कवि निशांत ने किया। धन्यवाद ज्ञापन कथाकार शिव कुमार यादव ने दिया। कार्यक्रम  बर्नपुर स्थित शिव कुमार यादव के आवास पर आयोजित किया गया।

इसे भी पढ़ेः नहीं रहे JNU के प्रोफेसर मैनेजर पांडेय