मोदी-शाह को ‘दुर्योधन-दुशासन’ कहने पर विधानसभा में BJP काहंगामा,  वॉकआउट

विधानसभा अध्यक्ष ने प्रस्ताव खारिज कर दिया

175

कोलकाताः पश्चिम बंगाल के मालदा से तृणमूल विधायक माणिकचक सावित्री मित्रा ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की तुलना दुर्योधन और दुशासन से करने पर विवाद खड़ा हो गया है।

भाजपा विधायकोंने इस टिप्पणी के विरोध में मंगलवार को विधानसभा में स्थगन प्रस्ताव पेश किया। लेकिन विधानसभा अध्यक्ष ने प्रस्ताव खारिज कर दिया।

इसे लेकर भाजपा विधायकों ने जमकर हंगामा मचाया। इसके जवाब में तृणमूल कांग्रेस ने भी विधानसभा में शोरगुल किया। बीजेपी के विधायक ने विधानसभा से वॉकआउट कर गये।

बता दें कि, रविवार को मालदा के रतुआ में पार्टी की एक बैठक में सावित्री को यह कहते सुना गया, ”प्रधानमंत्री, गृह मंत्री और भाजपा नेता दुर्योधन और दुशासन की तरह हैं और इनका काम महिलाओं का वस्त्र हरण करना है।” इसके अलावा सावित्री ने दावा किया कि देश की आजादी में गुजरात का कोई योगदान नहीं है। भाजपा ने इस टिप्पणी की निंदा की।

विधानसभा में बीजेपी विधायकों ने मचाया हंगामा

विधानसभा अध्यक्ष ने प्रस्ताव को खारिज करते हुए कहा कि यह सरकार का विषय है। उसके बाद बीजेपी के विधायकों ने हंगामा मचाना शुरू कर दिया।

बीजेपी विधायक अग्निमित्रा पॉल ने अध्यक्ष के बीच तकरार हुई। उसके बाद सावित्री मित्रा ने कहा कि विरोधी दल के नेता ने उनके बयान की गलत व्याख्या की है।

इसे भी पढ़ेंः ममता बनर्जी को आया गुस्सा, शीत वस्त्र नहीं मिलने पर भाषण छोड़कर मंच पर ही गईं बैठ

मैंने कभी नहीं कहा कि गुजरात के लोग आजादी की लड़ाई में हिस्सा नहीं लिया है। उन्होंने कहा कि दो लोग गुजरात से आये हैं, उनका स्वीधानता आंदोलन में कोई भूमिका नहीं है।

उसके बाद विधानसभा के विधायकों ने हंगामा मचाना शुरू कर दिया और उसके बाद विधानसभा की कार्रवाई से वॉकआउट कर गये।

अग्निमित्रा ने कहा कि गुजरातियों को आजादी आंदोलन में योगदान नहीं कहना शर्मनाक

अग्निमित्रा ने कहा कि सावित्री के नाम पर विभिन्न थानों में प्राथमिकी दर्ज करायी जायेगी। आसनसोल दक्षिण के विधायक ने कहा, “उनकी हिम्मत कैसे हुई कि वे प्रधानमंत्री और गृह मंत्री से ऐसा कहें।

उन्हें माफी मांगनी चाहिए। हम सजा चाहते हैं। वे हिम्मत कहां से लाते हो? ममता बनर्जी हिम्मत दे रही हैं।” उन्होंने कहा कि सावित्री मित्रा कह रही हैं कि गुजराती का स्वतंत्रता आंदोलन में योगदान नहीं है। यह शर्मनाक है कि कुछ दिन पहले रामनगर से तृणमूल विधायक और कारागार राज्य मंत्री अखिल गिरी ने देश की राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू के बारे में अपमानजनक टिप्पणी की थी।

इसे लेकर काफी बवाल मचा था। कई थानों में प्राथमिकी दर्ज की गई थी। अंत में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने नबन्ना में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर पार्टी विधायक के लिए माफी मांगी थी। उस विवाद के बाद इस बार बीजेपी सावित्री की टिप्पणियों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रही है।