CM ममता बनर्जी ने TMC नेता के बयान पर मांगी माफी

टीएमसी सुप्रीमो ने राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू को लेकर कहा कि वह बहुत अच्छी महिला हैं

152

कोलकाता : राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू पर विवादित बयान के चलते पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और टीएमसी सुप्रीमो ममता बनर्जी चौतरफा घिरी हुई हैं। विपक्ष लगातार ममता से माफी की मांग कर रहा था।

इस बीच सोमवार को राज्य सचिवालय में उच्चस्तरीय बैठक के बाद पत्रकारों से वार्ता के दौरान ममता बनर्जी ने टीएमसी नेता अखिल गिरि के विवादास्पद बयान पर माफी मांग ली है।

टीएमसी सुप्रीमो ने राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू को लेकर कहा कि वह बहुत अच्छी महिला हैं। वह बेहद प्यारी हैं।  मैं अपने विधायक के शब्दों की निंदा करती हूं। मैं माफी मांगती हूं। जो अखिल ने किया, वह गलत है। अगर ऐसा भविष्य में हुआ तो पार्टी ऐक्शन लेगी।

उधर दूसरी ओर सोमवार को बाल दिवस के अवसर पर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Chief Minister Mamata Banerjee) ने नेताजी इंडोर स्टेडियम (Netaji Indoor Stadium) में इशारों में राजनीति की बात छेड़ दी।

बाल दिवस पर बच्चों को संबोधित करती हुई ममता बनर्जी ने कहा कि हमसे गलतियां होती हैं। लेकिन गलतियों को सुधारने का मौका तो मिलना चाहिए।

सड़क पर चलते समय ठोकर किसे नहीं लगती। लेकिन जब ठोकर लगती है तो हम बचकर चलना सीख जाते हैं।इसलिए गलतियों को सुधारना जरूरी है।

दरअसल इंडोर स्टेडियम के मंच से मंत्री अखिल गिरि को लेकर इशारों-इशारों में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने गिरि को माफ करने की बात कह डाली।

वहीं, सीएम ने मंच से विपक्ष पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि राज्य में ऐसे भी लोग हैं जो लोग बंगाल से प्यार नहीं करते। ऐसे लोग हमेशा साजिश रचते रहते हैं।

तृणमूल कांग्रेस के खिलाफ गलत सूचनाएं फैलाते रहते हैं। हमारी हर चीज को लेकर षड़यंत्र करते हैं। उनकी सभी बातें सच नहीं होती हैं। कुछ लोगों को बंगाल पसंद नहीं है। इसलिए वो ऐसा करते हैं। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने आगे कहा कि बंगाल को संकट से बचना हमारा काम है।

अपने पैरों पर खड़ा होना जानता है बंगाल
मुख्यमंत्री ने बीजेपी पर तंज कसते हुए कहा कि बंगाल के लोग दिल्ली में जाकर षड़यंत्र रचते हैं। कुछ लोग ऐसे हैं जो खाते तो यहां का है, पर बातें बंगाल विरोधी बातें करते हैं।

इसे भी पढ़ेंः ‘बांग्ला साड़ी’ को विश्व बाजार में लाया जाएगाः ममता

बंगाल से लोग दिल्ली जातें हैं। दिल्ली में जाकर बातें करते हैं। बंगाल को पैसे मत दो। केंद्र से बंगाल की शिकायत करते हैं। और कहते हैं पैसे मत तो देखो बंगाल कैसे काम करेगा ? पर बंगाल को पैसे नहीं देंगे तो भी बंगाल अपने पैरों पर खड़ा होना जानता है।

शिक्षा में बंगाल नंबर 1
मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने इंडोर स्टेडिम में बंगाल की शिक्षा व्यवस्था की सफलता पर प्रकाश डाला। ममता बनर्जी ने कहा कि  प्राइमरी शिक्षा में बंगाल नंबर 1 बन गया है।

राज्य में 36 हजार बच्चों को स्टूडेंट कहा क्रेडिट कार्ड के पैसे मिले हैं। हमने राज्य में निःशुल्क आईएएस,आईपीएस प्रशिक्षण केन्द्र खोला है। तृणमूल कांग्रेस की सरकार के दौरान 2 लाख 53 हजार से ज्यादा नौकरियां दी गई हैं। टीचिंग और नॉन टीचिंग स्टॉफ की काफी भर्तियां हुई हैं। बंगाल शिक्षा में देश में सबसे आगे है।