पंचायत चुनाव में मतुआ वोट पर CM ममता की नजर, रास उत्सव में लेंगी हिस्सा!

नदिया जिले के दौरा शुरू हो रहा है

104

कोलकाताः  कस्बे की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी कल यानी मंगलवार को तीन दिवसीय दौरे पर नदिया जिले के लिए रवाना हो सकती हैं। तीन दिवसीय इस दौरे पर उनका व्यस्त कार्यक्रम है।

वह कई जनसभा के साथ प्रशासनिक बैठक भी करेंगी. सूत्रों के मुताबिक दौरे के पहले दिन वह नदिया जिले के मशहूर रास उत्सव में हिस्सा ले सकती हैं।

इसे भी पढ़ेंःतृणमूल विधायक ने CM ममता की तुलना  देवी दुर्गा से की 

नादिया जिले में दो मुख्य स्थान हैं, जहां बड़े पैमाने पर रास महोत्सव आयोजित किया जाता है। पहला नवद्वीप और दूसरा है शांतिपुर।

माना जा रहा है कि मुख्यमंत्री ममता इन दोनों जगहों में से किसी एक पर त्योहार देखने जा सकती हैं। पिछले 11 साल के शासन के दौरान वह कभी नादिया का रास उत्सव देखने नहीं गई हैं। इसलिए प्रशासनिक हलकों में इसे लेकर कोई हलचल नहीं थी.

नवान्न के अनुसार मुख्यमंत्री के 8 नवंबर को नदिया जिले में पहुंचने के निर्णय के बाद प्रशासनिक हलकों ने उनके रास उत्सव में शामिल होने की तैयारी शुरू कर दी है।

सूत्रों के मुताबिक इस संबंध में नदिया जिला प्रशासन को नबान्न की ओर से निर्देश भेज दिए गए हैं। हालांकि प्रशासन ने आधिकारिक तौर पर जानकारी दी है कि मुख्यमंत्री के सभी कार्यक्रम कृष्णानगर में होंगे।

शांतिपुर या नवद्वीप जाने की कोई योजना घोषित नहीं की गई है, क्योंकि वह मंगलवार दोपहर हेलीकॉप्टर से कृष्णानगर पहुंचेंगी। इसलिए माना जा रहा है कि वह मंगलवार को नादिया के इस प्रसिद्ध त्योहार में शामिल हो सकती हैं।

सूत्रों के अनुसार, मुख्यमंत्री का दौरा आगामी पंचायत चुनावों के आस-पास है और रास नादिया जिले के प्रमुख त्योहार में से एक है।

महोत्सव में भाग लेकर मुख्यमंत्री नदिया जिले के लोगों के साथ अपने जनसंपर्क को बनाए रखना चाहती हैं, क्योंकि नदिया जिले के अधिकांश निवासी मतुआ समुदाय के हैं।

लोकसभा चुनाव और विधानसभा चुनाव राज्य में मतुआ का अधिकांश वोट भाजपा को गया था। मतुआ समुदाय नदी के उस हिस्से में रहता है, जहां रास उत्सव होता है।

राणाघाट सीट बीजेपी ने न सिर्फ पिछले पंचायत चुनाव में बल्कि लोकसभा चुनाव में भी जीती थी। इसलिए तृणमूल नेता पंचायत चुनाव से पहले रास उत्सव में हिस्सा लेकर गेरुआ के कब्जे को तोड़ना चाहते हैं।

बता दें कि, सीएए लागू होने से मतुआ समुदाय के लोग भाजपा से नाराज बताये जा रहे हैं। ऐसे में ममता बनर्जी नदिया दौरे के दौरान मतुआ समुदाय को लुभाने की पूरी काशिश करेंगी।