शिक्षक अभ्यर्थियों का आंदोलन खत्म करवाने पर तुली है CM : दिलीप

न्यूटाउन इको पार्क में मॉर्निंग वॉक करने पहुंचे घोष

109

कोलकाता : भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष दिलीप घोष (BJP National Vice President Dilip Ghosh) ने सोमवार को एक बार फिर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Chief Minister Mamata Banerjee) पर तीखा हमला बोला है।

कोलकाता के धर्मतल्ला में धरने पर बैठे शिक्षक उम्मीदवारों को एक दिन के लिए धरना रोकने का कोलकाता पुलिस की ओर से अनुरोध किए जाने को लेकर उन्होंने सवाल खड़ा किया है।

घोष ने कहा है कि ममता बनर्जी किसी भी तरह से उम्मीदवारों का धरना खत्म करवाने पर तुली हैं।

सोमवार की सुबह न्यूटाउन इको पार्क में मॉर्निंग वॉक करने पहुंचे घोष ने कहा कि ममता बनर्जी नौकरी भी नहीं दे रही हैं और धरना भी नहीं करने दे रही हैं।

इसे भी पढ़ेंः पंचायत चुनाव में मतुआ वोट पर CM ममता की नजर, रास उत्सव में लेंगी हिस्सा!

आंदोलनरत उम्मीदवार जहां बैठे हैं उस पूरी जगह को घेर कर उन्हें एक पार्क के अंदर किनारे कर दिया गया है।

वे लोग किसी को भी डिस्टर्ब नहीं करते। कई महीनों से शांतिपूर्वक तरीके से बैठकर आंदोलन कर रहे हैं, यही सरकार की आंखों में गड़ रहा है।

गुरु नानक जयंती है ठीक है लेकिन शोभायात्रा तो सड़क से जाती है जबकि आंदोलनरत उम्मीदवार पार्क के अंदर बैठे हुए हैं। उनसे किसी भी जयंती के कार्यक्रम में कोई बाधा नहीं है।

सरकार केवल कोई ना कोई बहाना ढूंढ रही है ताकि आंदोलनरत उम्मीदवारों का आंदोलन खत्म करवा दिया जाए।

इसके अलावा आसन्न पंचायत चुनाव और वर्ष 2024 के लोकसभा चुनाव को लेकर चल रही तैयारियों के बीच एक बार फिर उन्होंने नागरिकता अधिनियम और एनआरसी का जिक्र किया।

उन्होंने कहा कि पश्चिम बंगाल में यह सबसे पहले लागू होना चाहिए। घोष ने कहा कि पश्चिम बंगाल में नागरिकता अधिनियम और एनआरसी लागू होता है तो तृणमूल के जो लोग विदेशी एजेंट हैं वे सबसे पहले देश से भगा दिए जाएंगे। देश और बंगाल के हित में सबसे पहले सीएए लागू करने की जरूरत है।