आलोचकों को करारा जवाब है ‘डोनी पोलो’ हवाई अड्डे का उद्घाटन : PM मोदी

सरकार सीमावर्ती क्षेत्रों में गांवों को मजबूत करने के लिए प्रतिबद्ध

176

ईटानगर: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) ने पिछली कांग्रेस सरकार पर तंज कसते हुए कहा कि योजनाओं को अटकाने, लटकाने और भटकाने का युग चला गया है।

हम ऐसी कार्य संस्कृति लेकर आए हैं, जहां योजनाओं का शिलान्यास और उसका उद्घाटन भी हम करते हैं। उन्होंने कहा कि डोनी पोलो हवाई अड्डे का शुभारंभ उन आलोचकों को करारा जवाब है, जिन्होंने हवाई अड्डे के शिलान्यास को चुनावी हथकंडा करार देने की कोशिश की थी।

प्रधानमंत्री ने शनिवार को अरुणाचल प्रदेश के ईटानगर में देश के पहले ग्रीनफील्ड डोनी पोलो हवाई अड्डे का उद्घाटन (Inauguration of Greenfield Doni Polo Airport) किया और 600 मेगावाट के कामेंग हाइड्रो पावर स्टेशन राष्ट्र को समर्पित किया।

फरवरी 2019 में इस एयरपोर्ट का शिलान्यास स्वयं प्रधानमंत्री मोदी ने किया था। बीच में महामारी की चुनौतियों के बावजूद एयरपोर्ट का काम बहुत कम समय में पूरा किया गया है।

सभा को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने राज्य के लोगों की अनुशासनप्रियता की प्रशंसा करते हुए कहा कि वे अरुणाचल से नई उमंग, ऊर्जा और नया उत्साह लेकर लौटते हैं। उन्होंने कहा कि अरुणाचल के लोगों के चेहरे पर कभी भी उदासीनता और निराशा नहीं झलकती है।

प्रधानमंत्री ने विकास कार्यों को चुनाव और राजनीतिक लाभ से जोड़ने को लेकर राजनीतिक टिप्पणीकारों और विपक्ष की जमकर आलोचना की। उन्होंने कहा कि कहा कि जब उन्होंने फरवरी 2019 में ‘डोनी पोलो’ हवाई अड्डे का शिलान्यास किया,  तब मई में चुनाव होने वाले थे।

राजनीतिक टिप्पणीकारों ने शोर मचाया कि हवाई अड्डा नहीं बनने जा रहा है और मोदी मतदान के कारण पत्थर खड़ा कर रहे हैं। आज का उद्घाटन उन लोगों के मुंह पर करारा तमाचा है, जिन्होंने दावा किया था कि अरुणाचल प्रदेश में आगामी चुनावों के कारण शिलान्यास किया गया है।

उन्होंने कहा कि आप जानते हैं कि हम एक कार्य संस्कृति लेकर आए हैं, जिसका शिलान्यास हम करते हैं, उसका उद्घाटन भी हम करते हैं। अटकाना, लटकाना और भटकाना का युग चला गया।

प्रधानमंत्री ने कहा कि आज देश में जो सरकार है, उसकी प्राथमिकता देश का विकास है, देश के लोगों का विकास है। साल में 365 दिन, चौबीसों घंटे, हम देश के विकास के लिए ही काम करते हैं।

उन्होंने कहा कि हम देश के विकास के लिए काम करते हैं। मैं यहां अरुणाचल प्रदेश में हूं, जहां सूरज उगता है, और दमन में उतरूंगा, जहां सूरज डूबता है।

हम चुनाव के लाभ के लिए काम नहीं करते हैं। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार सीमावर्ती क्षेत्रों में गांवों को मजबूत करने के लिए प्रतिबद्ध है। डबल इंजन सरकार अरुणाचल प्रदेश को नई ऊंचाइयों पर ले जा रही है।

पूर्व की सरकारों पर पूर्वोत्तर की उपेक्षा को लेकर निशाना साधते हुए मोदी ने कहा कि आजादी के बाद पूर्वोत्तर एक अलग युग का गवाह बना। दशकों तक यह क्षेत्र पूर्व के राजनीतिक दलों की बेरुखी का शिकार रहा है।

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी द्वारा पूर्वोत्तर के लिए अलग से मंत्रालय गठित करने का हवाला देते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि अटल जी ने सरकार बनाई और यह पहली सरकार थी जिसने क्षेत्र के विकास के लिए एक अलग मंत्रालय बनाया।

प्रधानमंत्री ने कहा कि इसके बाद जो सरकारें आईं, उन्होंने गति को आगे नहीं बढ़ाया। परिवर्तन का एक और युग आया जब आपने मुझे अपनी सेवा करने का अवसर दिया।

पहले की सरकारें सोचती थीं कि पूर्वोत्तर बहुत दूर है। सीमावर्ती क्षेत्रों के गांवों को अंतिम गांव माना जाता था, लेकिन लेकिन हमारी सरकार ने इन्हें आखिरी गांव, आखिरी छोर नहीं बल्कि देश का प्रथम गांव मानकर काम किया। अब कल्चर हो या एग्रीकल्चर, कॉमर्स हो या कनेक्टिविटी, पूर्वोत्तर को आखिरी नहीं बल्कि सर्वोच्च प्राथमिकता मिलती है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि हमारी सरकार के प्रयासों के कारण, पूर्वोत्तर का विकास प्राथमिकता बन गया है। कल्चर हो या एग्रीकल्चर, कनेक्टिविटी का कॉमर्स हो, ट्रेड हो या टूरिज्म, टेलीकॉम हो या टेक्सटाइल, पूर्वोत्तर को हर क्षेत्र में पहली प्राथमिकता मिलती है। मोदी कहा कि हम उन लोगों को मुख्यधारा में लाने का काम कर रहे हैं जो रास्ता भटक गए हैं।

उन्होंने कहा कि डोनी पोलो हवाई अड्डा अरुणाचल प्रदेश के लिए चौथा परिचालन हवाई अड्डा है, जिससे पूर्वोत्तर क्षेत्र में कुल हवाई अड्डों की संख्या 16 हो गई है।

1947 से 2014 तक, पूर्वोत्तर में केवल 9 हवाई अड्डे बनाए गए थे। पिछले आठ साल की छोटी सी अवधि में नॉर्थ-ईस्ट में 7 एयरपोर्ट बनाए गए हैं।

उल्लेखनीय है कि क्षेत्र में हवाई अड्डों का यह तेजी से विकास पूर्वोत्तर में कनेक्टिविटी बढ़ाने पर प्रधानमंत्री के विशेष जोर को दर्शाता है। उन्होंने बताया कि पूर्वोत्तर भारत को जोड़ने वाली उड़ानों की संख्या दोगुनी हो गई है।

इसे भी पढ़ेंः PM मोदी और CM ममता के साथ 5 दिसंबर को दिल्ली में हो सकती है बैठक

उन्होंने कहा कि यह एयरपोर्ट अरुणाचल प्रदेश के इतिहास और संस्कृति का साक्षी बन रहा है। हवाई अड्डे के नामकरण पर प्रकाश डालते हुए, प्रधानमंत्री ने कहा कि ‘डोनी’ का अर्थ सूर्य है जबकि ‘पोलो’ का अर्थ चंद्रमा है।

प्रधानमंत्री ने सूर्य और चंद्रमा की रोशनी की तुलना राज्य के विकास से करते हुए कहा कि एयरपोर्ट का विकास उतना ही जरूरी है जितना कि गरीबों का विकास।

अरुणाचल प्रदेश में ढांचागत विकास पर प्रकाश डालते हुए, प्रधानमंत्री ने दूरस्थ और दुर्गम क्षेत्रों में राजमार्ग निर्माण का उदाहरण दिया और आगे कहा कि केंद्र सरकार बुनियादी ढांचे पर लगभग 50,000 करोड़ रुपये खर्च करने जा रही है। इससे निश्चित रूप से राज्य में पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा, जिससे आय में वृद्धि होगी।

प्रधानमंत्री ने कहा कि देश ने 2014 के बाद हर गांव तक बिजली पहुंचाने का अभियान शुरू किया था। इस अभियान का बहुत बड़ा लाभ अरुणाचल प्रदेश के गांवों को भी हुआ है।

यहां ऐसे अनेकों गांव थे, जहां आजादी के बाद पहली बार बिजली पहुंची थी। उन्होंने कहा कि हमने सदियों पुराने उस कानून को बदल दिया जिसमें बांस काटने पर रोक थी।

अब आप बांस उगा सकते हैं, काट सकते हैं और बेच सकते हैं। अब आप इसे खुले बाजार में व्यापार कर सकते हैं।

इस मौके पर केंद्रीय मंत्री किरेन रिजिजू ने कहा कि हमारा सपना था कि हमारे प्रदेश की राजधानी में एयरपोर्ट बने, आज प्रधानमंत्री मोदी के प्रयास से वह सपना साकार हो गया है। उन्होंने इस हवाई अड्डे के निर्माण के लिए विशेष दिशा-निर्देश दिए।